शनिवार, 10 जनवरी 2015

जरा शर्म करो 'आप' सभी...

जरा शर्म करो 'आप' सभी 
जुबान बंद होगी भी कभी 

जुबांसे  जब ये आग उगलता 
मीडिया को कुछ नहीं दीखता 
जागो  कदम उठाओ अभी 
जुबान बंद होगी भी कभी 

इसका कोई नहीं 'साक्षी'
मीडिया का तो  एक ही  साक्षी 
'साक्षी' का पीछा छोड़ो अभी
जुबान बंद होगी भी कभी  

मीडिया वालों ज़रा जागो 
जरा इसके पीछे भी भागो
हिम्मतसे दिखाओ इसे अभी  
जुबान बंद होगी भी कभी
जरा शर्म करो 'आप' सभी 
जुबान बंद होगी भी कभी

1 टिप्पणी:

  1. वाह वाह ! ये हुई ना कोई बात ! ऐसे तमाशा वाले कॉँग्रेस और आप को ऐसी ही भाषा मॆं जवाब देना चाहिए !

    उत्तर देंहटाएं